खेत-खलियान

अनुदान प्राप्त कर 50 मैट्रिक टन क्षमता के प्याज भंडार गृह का कराया निर्माण

– उद्यानिकी विभाग की योजनाओं का लाभ लेकर आर्थिक रूप से किसान बन रहे सक्षम
– प्याज के भाव बढ़ने पर 5 से 7 रुपए प्रति किलो होता है फायदा

देवास। केंद्र और प्रदेश सरकार द्वारा किसानों की आय को दोगुना करने के लिए अनेक किसान हितैषी योजनाएं चलाई जा रही है। किसान इन योजनाओं का लाभ लेकर आर्थिक रूप रूप से सशक्‍त बन रहे हैं। इन्‍हीं किसानों में से जिले के विकासखंड खातेगांव के ग्राम कांकरिया के किसान गोविंदगिरि पिता भंवरगिरि हैं।
किसान गोविंदगिरि ने उद्यानिकी विभाग द्वारा संचालित राष्ट्रीय कृषि विकास योजना का लाभ लेकर अपने खेत पर 3 लाख 50 हजार रुपए की लागत से 50 मैट्रिक टन क्षमता के प्याज भंडार गृह का निर्माण कराया है। गोविंदगिरि ने बताया उत्पादित प्याज फसल को 4 से 5 माह तक भंडारित कर रखता हूं तथा बाजार में प्याज फसल का उचित भाव आने पर ही बेचता हूं। इससे मुझे 5 से 7 रुपए प्रति किलो के मान से अधिक भाव प्राप्त हो जाता है। प्याज भंडार गृह निर्माण के लिए मुझे योजना अनुसार 1 लाख 75 हजार रुपए की अनुदान सहायता प्राप्त हुई है।
किसान गोविंदगिरि ने बताया 10-12 एकड़ क्षेत्रफल में प्याज की फसल लगाता हूं, जिसका उत्पादन 1400 से 1500 क्विंटल होता है। पहले प्याज की फसल निकालते ही बाजार में बेचना पड़ती थी, जिससे प्याज का उचित मूल्य नहीं मिल पाता था। किसान गोविंदगिरि योजना के संचालन एवं योजना का लाभ मिलने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्‍यमंत्री शिवराजसिंह चौहान को हृदय से धन्‍यवाद दे रहे हैं।

Advertisement

News Desk

मैं रूपेश मेहता, लगभग 20 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र से जुड़ा हूं। इन वर्षों में कई प्रतिष्ठित समाचार पत्रों में कार्य का अवसर मुझे प्राप्त हुआ। किसी भी देश-समाज के उत्थान में सकारात्मक पत्रकारिता का अपना महत्वपूर्ण योगदान होता है। इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए मैंने न्यूज वन क्लिक के माध्यम से डिजिटल मीडिया के क्षेत्र में कार्य प्रारंभ किया है। इस वेबसाइट के माध्यम से मेरा प्रयास रहेगा प्रमुख समाचारों काे स्थान प्रदान करना। वेबसाइट के संचालन में कोई कमियां हो तो आप कमेंट बॉक्स में अपने संदेश अवश्य लिखें। धन्यवाद! आपका रूपेश मेहता, संपर्क: 7000794059

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button