प्रशासनिक

पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग मंत्री प्रहलाद पटेल ने जटाशंकर में जल गंगा संवर्धन अभियान में सहभागिता की

जल है तो कल है इसे बचाने के लिए हमें जल संरचनाओं को पुर्नजीवित करने के प्रयास करना होंगे- मंत्री श्री पटेल

देवास। प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग तथा श्रम विभाग के मंत्री प्रहलाद पटेल ने देवास जिले के बागली विकासखंड जटाशंकर स्थल में आयोजित “जल गंगा संवर्धन अभियान” में सहभागिता की। मंत्री श्री पटेल ने जटाशंकर महादेव मंदिर में पूजा अर्चन की तथा प्रदेश की सुख-समृद्धि की कामना है। उन्होंने जटाशंकर क्षेत्र एवं कुंड की साफ-सफाई की।

इसके पश्चात मंत्री श्री पटेल ने ग्राम पंचायत बरझाई में कालीसिंध नदी उद्गम स्थल पर साफ-सफाई की तथा पौधारोपण किया। इस अवसर पर बागली विधायक मुरली भंवरा, हाटपीपल्या विधायक मनोज चौधरी, जिला पंचायत अध्यक्ष लीला भेरूलाल अटारिया, राजीव खंडेलवाल, सीईओ जिला पंचायत हिमांशु प्रजापति, एसडीएम बागली आनंद मालवीय उपस्थित थे।

कार्यक्रम में मंत्री श्री पटेल ने जनसमुदाय को संबोधित करते हुए कहा कि आज मेरे लिए बड़े ही सौभाग्य की बात है कि मैं भगवान जटायू की तपोभूमि पर आया हूं। पानी की बूंदें आज भी लगातार गिरती हैं। उन्होंने कहा कि हमें अपने पर्यावरण को भी इसी प्रकार संभालकर रखना है। मंत्री श्री पटेल ने कहा कि “जल गंगा संवर्धन अभियान” 5 जून से प्रारंभ हुआ था जो कि 16 जून गंगा दशहरा तक चलेगा।

मंत्री श्री पटेल ने कहा कि देश में आज जनसंख्या लगातार बढ़ती जा रही है लेकिन पानी हमारे पास उतना है। आजादी के समय देश की आबादी 40 करोड़ थी जो वर्तमान में बढ़कर 142 करोड़ के लगभग हो गई है लेकिन पानी उतना ही है। भारत सरकार ने प्रति व्यक्ति को 55 लीटर पानी देने का फैसला किया, लेकिन हम पानी को बना नहीं सकते। पानी ऊपर से गिरेगा और धरती माता में जाएगा तभी हमें पानी मिलेगा। बारिश के पानी और अन्य जल स्त्रोतों के पानी को संरक्षण किए बिना हम पानी को सहजकर नहीं रख सकते हैं। हमें अपनी जिम्मेदारी को समझना होगा और इनका संरक्षण करना होगा तभी हम अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए कुछ करके जाएंगे।

मंत्री श्री पटेल ने कहा कि हमारे पूर्वज बहुत ही समझदार और भविष्य को देखकर ही काम करते थे। उन्होंने आने वाली पीढ़ी के लिए पहले से ही कुएं, बावड़िया, कुंडों, तालाब, झीलों एवं घाटों को निर्माण करवाया और हम लोगों को सौगात के रूप में देकर गए। हमें जो सौगात देकर गए हैं, उनको हमें अब संरक्षित करना है, जिससे हमारी आने वाली पीढ़ी को पर्याप्त मात्रा में जल मिल सकें।

मंत्री श्री पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने जब अभियान प्रारंभ किया था तब मैंने भी तय किया कि मैं नदियों के उद्गम स्थल तक जाउंगा। मैं लगातार उद्गम स्थल पर जा रहा हूं। आज बागली की ग्राम पंचायत जटाशंकर में आया हूं। बड़ा ही अच्छा लग रहा है कि भगवान जटायू की तपो भूमि हैं, जहां जल की धारा लगातार बह रही है। मेरा सभी से आग्रह है कि जल गंगा संवर्धन अभियान में बढ़चढ़कर सहभागिता करके ज्यादा से ज्यादा जल संरक्षण का कार्य करें। उन्होंने कहा कि ज्यादा से ज्यादा वृक्षारोपण करें। वृक्षारोपण के साथ ही उनकी देखभाल भी करें।

उन्होंने कहा कि वृक्ष होंगे तो जल होगा, जल होगा तो हमारा जीवन चलेगा। यह नारा नहीं है सच्चाई है। जल ही जीवन है इसलिए आने वाली पीढ़ी को ध्यान में रखते हुए ज्यादा से ज्यादा वृक्षारोपण करें। उन्होंने कहा कि हम अक्सर लालच में आ जाते है और अपने खेतों में लगे पेड़-पौधों को काटकर वहां या तो निर्माण कर लेते हैं या फिर खेती प्रारंभ कर देते हैं। हमें खेतों, आंगनों में लगे पेड़-पौधों को संरक्षित करना ही है साथ ही दूसरे पौधों को बड़ा करना है। वृक्ष हमें छाया ही नहीं देते, हमें जीवनदायनी ऑक्सीजन और पीने के लिए पानी भी देते हैं।

कार्यक्रम में विधायक श्री भंवरा ने संबोधित करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश सरकार द्वारा संचालित जल गंगा संवर्धन अभियान में हम सभी सहभागी बन रहे हैं। वर्तमान समय में इस जल का बचाव होना चाहिए। जल बचाव के साथ-साथ जल संरक्षण भी सभी लोगों को करना है। क्योंकि हमारा जीवन जल ही है जल ही जीवन है और हम इस पर ही निर्भर है। जल है तो कल है। इस जल को बचाने के लिए मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने जल गंगा संवर्धन अभियान हमारे प्राचीन कुएं, बावड़ी तालाब, झीलों, नदियों सभी को संरक्षण करने के लिए प्रारंभ किया है। यह हम सभी के लिए पुण्य कार्य है। उन्होंने कहा कि बागली विधानसभा क्षेत्र में यह कार्य बहुत ही तेजी से संचालित किया जा रहा है। जिसमें नागरिकों द्वारा उत्साह से सहभागिता हो रही है। इस कार्य में हम सभी लोग लगे हैं। शासन सभी योजनाएं एवं अभियान जनकल्याण के लिए होती है। यह सब आमजन के सहयोग से पूरी होती है। हम सभी को जल गंगा संवर्धन अभियान के बाद भी हमारे जल स्त्रोतों को बचाना है तथा अधिक से अधिक वृक्षारोपण करके उनका संरक्षण भी करना है।

कार्यक्रम में हाटपीपल्या विधायक मनोज चौधरी ने संबोधित करते हुए कहा कि जल गंगा संवर्धन अभियान के माध्यम से हम जल का संरक्षण कर सकते हैं। हमें जल संरक्षण के लिए के साथ-साथ सघन वृक्षारोपण करना है तथा उनका भी संरक्षण करना है। उन्होंने कहा कि पानी की समस्याएं हमारी माता-बहनें अच्छे से समझ सकती है। उन्हें पानी की कीमत मालूम है, क्योंकि वे अक्सर दूर दराज के कुएं-बावड़ी एवं तालाबों से अपने सिर पर रखकर लाती है। इसलिए हमें अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए जल स्त्रोतों का संरक्षण करना है और वृक्षारोपण कर पर्यावरण को भी संतुलित करना है।

कार्यक्रम में सीईओ जिला पंचायत श्री प्रजापति ने बताया कि जिले में जिले में 196 पुराने तालाब, 105 स्टॉप डेम, 172 कुएं-बावड़ियां व अन्य जल स्त्रोतों पर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि देवास जिले में रूफ हॉर्वेस्टिंग सिस्टम के माध्यम से लगभग 250 स्थानों पर बारिश के पानी के संग्रहण के लिए कार्य किया जा रहे हैं। नर्मदा नदी के साथ ही क्षिप्रा, कालीसिंध सहित अन्य नदियों को शुद्ध बनाने का कार्य इस अभियान के माध्यम से किया जाएगा।

Advertisement

News Desk

मैं रूपेश मेहता, लगभग 20 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र से जुड़ा हूं। इन वर्षों में कई प्रतिष्ठित समाचार पत्रों में कार्य का अवसर मुझे प्राप्त हुआ। किसी भी देश-समाज के उत्थान में सकारात्मक पत्रकारिता का अपना महत्वपूर्ण योगदान होता है। इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए मैंने न्यूज वन क्लिक के माध्यम से डिजिटल मीडिया के क्षेत्र में कार्य प्रारंभ किया है। इस वेबसाइट के माध्यम से मेरा प्रयास रहेगा प्रमुख समाचारों काे स्थान प्रदान करना। वेबसाइट के संचालन में कोई कमियां हो तो आप कमेंट बॉक्स में अपने संदेश अवश्य लिखें। धन्यवाद! आपका रूपेश मेहता, संपर्क: 7000794059

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button